एक मसीहा आएगा

A friend and fellow-blogger posted this on his blog. This heart-breaking story of a poor baby who dies of bitter cold waiting for the Angel of Death, who’s garbled story his Mother told him to keep his hopes high. The boy’s hopes stayed up, even through death. But it painfully reminds us of the sad truth of life, something that I wrote about in my first post – That we as a species have become unfeeling and unkind towards our own.

Something to ponder on…

I hope you find it as moving and learn from it as I have.

Krishnaagyani

गरीबी और ये पापी पेट इंसान

से क्या नहीं कराते? छोटू अभी मुश्किल से ६ साल का हुआ था; पर गरीबो की उम्र नहीं मायने रखती ‘ अमीरो के महल से निकले कचरे में वो अपनी रोजी रोटी तलाश करता था । उसके बाल मन में बस एक ही बात थी ” काम करने से ही खाना मिलता है उसके लिए स्कूल शिक्षा सब सपना था ।

तम्हे पता है माँ कहती है ” एक दिन आएगा जब हमें कोई काम नही करना पड़ेगा वो माँ बोलती है कोई ‘मसीहा’ आएगा ।। तब हम तुम यहाँ नहीं आएँगे और सारा दिन कंचे खेलेंगे ‘ उसके दोस्त ने बिना समझे ही सिर हिला दिया ।

माँ’ माँ मसीहा कब आएगा रोज की तरह छोटू ने अपनी माँ से वही सवाल दुहरा दिया ।” आएगा जरूर अाएगा उस दिन अच्छा खाना खेलना और बस आराम कोई काम नहीं ‘ उसकी माँ ने…

View original post 215 more words

3 thoughts on “एक मसीहा आएगा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s